Home hindi-story Gubbare Wala | Hindi kahani For Kids | गुब्बारे वाला और एक...

Gubbare Wala | Hindi kahani For Kids | गुब्बारे वाला और एक बच्चा

186
hindi motivational kahani hamari soch
नमस्कार दोस्तों इस कहानी मे हम यह देखेंगे की हमारी सफलता हमारे सौंदर्य या कपडे तय नहीं करते बल्कि हमारी सोच पर निर्भर करती हे गुब्बारे वाला और एक बच्चा कहानी कुछ इस प्रकार हे एक शहर में एक सूंदर बच्चा रहता था जिसे अपनी सुंदरता पर बड़ा अभिमान था

गुब्बारे वाला और एक बच्चा – Hindi Moral Story

वह बच्चा रोज अपनी society में आने वाले ballonवाले को देखता था।

ballon वाला रोज सुबह society के main gate पर अपनी cycle लगा कर ballon बेचता था । रात होने पर cycle लेकर घर चला जाता। उसके पास red blue white yellow black कलर के ballon होते थे। उसकी एक खास बात थी, जब भी उसके बलून की sale कम होने लगती थी की वह तुरंत सबसे सुंदर बलून उड़ा देता था। उड़ते हुए ballon को देखकर फिर से ढेर सारे बच्चे उसके पास पहुंच जाते थे।

उस बच्चे ने कई दिनों तक ऑब्सेर्वे किया की कैसे बलून वाला व्यक्ति सबसे सूंदर बलून को उड़ा कर बच्चो को इकठ्ठा कर लेता हे |यह राज़ जानने के लिए वह व्यक्ति एक दिन ballon वाले के पास पहुंच गया। उसने देखा की ballon वाला अपने काम में लीन था, वह ballon फुला-फुलाकर साइकिल में बांध रहा था। उसे चारों तरफ से बच्चों ने घेर रखा था। कोई कह रहा था, अंकल वो रेड वाला मुझे दे दीजिए, तो कोई कहता अंकल मुझे वाइट वाला बलून चाहिए। वह सबको एक-एक कर ballon दे रहा था। बच्चों की भीड़ जब खत्म होने लगती, तो वह एक सूंदर बलून उड़ा देता और फिरसे बच्चो की भीड़ जमा हो जाती थी ।

अब उस बच्चे से रहा नहीं गया। उसने बड़े प्यार से ballon वाले से पूछा की क्या आप Black color के baloon को छोड़ेंगे तो क्या वो भी ऊपर जाएगा? इस बात पर ballonवाला मुस्कुराने लगा और उसने कहा, हां बिलकुल ऊपर जाएगा। उसने उस बच्चे को बड़े प्यार से समझाते हुए कहा कि ballon का रंग यह तय नहीं करता है कि वह ऊपर जाएगा या नहीं, बल्कि उसके अंदर क्या भरा है उससे तय होता है कि वह ऊपर जायेगा या नहीं।

इसी तरह हम इंसानों का सौंदर्य या कपड़े यह तय नहीं करते हैं कि वह कितना ऊपर जाएगा। वह जीवन में किस मुकाम पर पहुंचेगा। उसके बाहरी रंग-रूप पर उसकी सफलता निर्भर नहीं करती है, बल्कि इस बात पर निर्भर करता है कि आप अंदर से क्या सोचते हैं? हमारी सोच ही हमारी ऊंचाई तय करती है।

निष्कर्ष
दोस्तों कमेंट के माध्यम से यह बताएं कि “गुब्बारे वाला और एक बच्चा” वाला यह आर्टिकल आपको कैसा लगा | आप सभी से निवेदन हे की अगर आपको हमारी पोस्ट के माध्यम से सही जानकारी मिले तो अपने जीवन में आवशयक बदलाव जरूर करे फिर भी अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके | आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए आर्टिकल लाने के लिए प्रेरित करता है | ऐसी ही कहानी के बारेमे जानने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे
धन्यवाद ! 🙏