Hum Katha Sunate Lyrics – हम कथा सुनाते – Ramayan

37
hum katha sunate lyrics hindi & english

hum Katha Sunate lyrics in Hindi & english from Biggest TV Serial Ramayan(1987) is one of Most Popular bhajan of Ramayana and this song sung by Hemlata, Kavita Krishnamurthy, Ravindra Jain. . The song Hum Katha Sunate song is composed by Ravindra Jain.

Hum Katha Sunate Lyrics Ramayan Details :-

TV Serial: Ramayan (1987)
Music: Ravindra Jain
Director: Ramanand Sagar
TV: DD National
Song Title: Hum Katha Sunate Ram Sakal Gun Dham

हम कथा सुनाते – Lyrics Ramayan Hindi :-

ॐ श्री महा गनाधि पते नमः
ॐ श्री उमामहेश्वरा भ्या नमः
वाल्मीकि गुरुदेव ने
कर पंकज तीर नाम
सुमिरे मात सरस्वती
हम पर हो खुद सवार

मात पीता की वंदना
करते बारंबार
गुरुजन राजा प्रजाजन
नमन करो स्वीकार

हम कथा सुनाते राम शक्ल गुणधाम की
हम कथा सुनाते राम शक्ल गुणधाम की
ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की

जंबू द्वीपे भरत खंडे
आर्यवरते भारत वर्षे
एक नगरी है विख्यात अयोध्या नाम की
येही जन्म भूमि है परम पूज्य श्री राम की
हम कथा सुनाते राम शक्ल गुनधाम की
ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की
ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की

रघुकुल के राजा धरमात्मा
चक्रवर्ती दशरथ पुण्यात्मा
संतति हेतु यज्ञ करवाया
धर्म यज्ञ का शुभफल पाया
नृप घर जन्मे चार कुमारा
रघुकुल दीप जगत आधारा
चारों भ्राताओं के शुभ नाम
भरत शत्रुग्न लक्ष्मण रामा

गुरु वशीष्ठ के गुरुकुल जाके
अल्प काल विध्या सब पाके
पुरन हुयी शिक्षा रघुवर पुरन काम की
हम कथा सुनाते राम शक्ल गुणधाम की
हम कथा सुनाते राम शक्ल गुणधाम की
ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की

म्रीदुस्वर कोमल भावना
रोचक प्रस्तुति ढंग
एक एक कर वर्णन करे
लव कुश राम प्रसंग
विश्वामित्र महामुनि राई
इनके संग चले दो भाई

कैसे राम तड़का मायी
कैसे नाथ अहिल्या तारी
मुनिवर विश्वामित्र तब
संग ले लक्ष्मण राम
सिया स्वयंवर देखने
पहुचे मिथिला धाम

जनकपुर उत्सव है भारी
जनकपुर उत्सव है भारी
अपने वर का चयन
करेगी सीता सुकुमारी
जनकपुर उत्सव है भारी

जनक राज का कठिन प्रण
सुनो सुनो सब कोई
जो तोड़े शिव धनुष को
सो सीता पति होए

जो तोडे शिव धनुष कठोर
सब की दृष्टि राम की ओर
राम विनयगुण के अवतार
गुरुवर की आज्ञा सिरोद्धार
सेहेज भाव से शिव धनु तोड़ा
जनक सुता संग नाता जोड़ा

रघुवर जैसा और ना कोई
सीता की समता नहीं होई
जो करे पराजित कान्ति कोटी रति काम की
हम कथा सुनाते राम शक्ल गुणधाम की
ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की

सब पर शब्द मोहिनी डाली
मंत्रमुग्ध भए सब नर-नारी
यूं दिन रैन जात है बीते
लव कुश ने सब के मन जीते

वन गमन सीता हरन हनुमत मिलन
लंका देहेन रावण मरण
अयोध्या पुनरागमन

सब विस्तार कथा सुनाई
राजा राम भए रघुराई

राम राज आयो सुख दायी
सुख समृद्धि श्री घर घर आई

काल चक्र ने घटना क्रम में
ऐसा चक्र चलाया
राम सिया के जीवन में
फिर घोर अंधेरा छाया

अवध में ऐसा ऐसा ऐक दिन आया
निष्कलंक सीता पे प्रजा ने
मिथ्या दोष लगाया
अवध में ऐसा ऐसा ऐक दिन आया

चलदी सिया जब तोड़कर
सब स्नेह-नाते मोह के
पाषाण हृदयो में ना
अंगारे जगे विद्रोह के
ममतामयी माओ के
आँचल भी सिमट कर रेह गए
गुरुदेव ज्ञान और नीति के
सागर भी घट कर रेह गए

ना रघुकुल ना रघुकुल नायक
कोई ना सिया का हुआ सहायक
मानवता को खो बैठे जब
सभ्य नगर के वासी
तब सीता को हुआ सहायक
वन का एक सन्यासी

उन ऋषि परम उदार का
वाल्मीकि शुभ नाम
सीता को आश्रय दिया
ले आए निज धाम

रघुकुल में कुलदीप जलाए
राम के दो सूत सियने जाये

श्रोता गण जो एक राजा की पुत्री है
एक राजा की पुत्रवधू हैं
और एक चक्रवती सम्राट की पत्नी है
वोही महाराणी सीता
वनवास के दुखो में
अपने दिनो कैसे काटती हैं
अपने कुल के गुरुवर और
स्वाभिमान की रक्षा करते हुये
किसी से सहायता मांगे बिना
कैसे अपने काम वो स्वयं करती है
स्वयं वन से लकड़ी काटती है
स्वयं अपना धान कूटती है
स्वयं अपनी चक्की पीसती हैं
और अपनी संतान को
स्वावलंबन बनने की शिक्षा कैसे देती है
अब उसकी करुण झांकी देखिये

जनक दुलारी कुलवधु
दशरथ जी की राजा रानी हो के
दिन वन में बिताती हैं
रेहती थी घेरी जिसे
दास-दासी आठो यम
दासी बनी अपनी
उदासी को छूपाती है
धरम प्रवीन सती परम कुलिन सब
विधि दोशहीन
जीना दुख में सिखाती हैं

जगमाता हरी-प्रिय लक्ष्मी स्वरूप सिया
कूटती है धान भोज स्वयं बनाती है
कठिन कुल्हाड़ी लेके लकड़िया कांटती है
करम लिखेको पर काट नहीं पाती है

फूल भी उठाना भारी जिस सुकुमारी को था
दुख भरी जीवन बोज वो उठाती है
अर्धांगी रघुवीर की वो धरधीरे
भर्ती है नीर नीर जलमें नेहलाती है

जिसके प्रजाके अपवादों कुचक्रा में
वो पीसती है चक्की स्वाभिमान बचाती है
पालती है बच्चोकों वो कर्मयोगिनी के भाति
स्वाभिमानी स्वावलंबी सफल बनाती हैं
ऐसी सीता माता की परीक्षा लेते दुख देते
निठुर नियति को दया भी नहीं आती है

ओ उस दुखिया के राज-दुलारे
हम ही सूत श्री राम तिहारे

ओ सीता माँ की आँख के तारे ऐ
लव-कुश है पितु नाम हमारे

हे पितु भाग्य हमारे जागे
राम कथा कही राम के आगे

Hum Katha Sunate Lyrics Ramayan english :-

Om Shri Mahaganadhi Pataye Namah
Om Shri Uma Maheshwara Bhyam Namah

Valmiki Gurudev Ke
Kar Pankaj Sir Naam
Sumire Maat Saraswati
Hum Par Ho Hu Sahaar

Maat Pita Ki Vandana
Karte Baaram Baar
Gurujan Raja Praja Jan
Naman Karo Swikaar

Hum Katha Sunate
Ram Sakal Gun Dhaam Ki
Hum Katha Sunate
Ram Sakal Gun Dhaam Ki

Yeh Ramayan Hai
Punya Katha Shri Ram Ki

Jambu Dweepe Bharat Khande
Aryavarte Bharatvarshe
Ek Nagri Hai Vikhyat
Ayodhya Naam Ki

Yahi Janmabhoomi Hai
Param Pujya Shri Ram Ki
Hum Katha Sunaate
Ram Sakal Gun Dhaam Ki

Yeh Ramayan Hai
Punya Katha Shri Ram Ki
Yeh Ramayan Hai
Punya Katha Shri Ram Ki

Raghukul Ke Raja Dharmatma
Chakravarti Dashrath Punyatma
Santati Hetu Yagya Karvaya
Dharm Yagya Ka Shubh Phal Paya

Nrip Ghar Janme Char Kumara
Raghukul Deep Jagat Aadhara
Charon Bhraton Ka Shubh Naamah
Bharat Shatrughan Lakshman Rama

Guru Vashisht Ke Gurukul Jaake
Alp Kal Vidya Sab Paake
Puran Hui Shiksha
Raghuvar Puran Kaam Ki

Hum Katha Sunaate
Ram Sakal Gun Dhaam Ki
Yeh Ramayan Hai
Punya Katha Shri Ram Ki

Mridu Swar Komal Bhavana
Rochak Prastuti Dhang
Ek Ek Kar Varnan Karein
Luv Kush Ram Prasang

Vishwamitra Mahamuni Rai
Inke Sang Chale Do Bhai
Kaise Ram Tadka Maari
Kaise Nath Ahilya Taari

Munivar Vishwamitra Tab
Sang Le Lakshman Ram
Siya Swayamvar Dekhne
Pahunche Mithila Dham

Janakpur Utsav Hai Bhari
Janakpur Utsav Hai Bhari
Apne Var Ka Chayan Karegi
Sita Sukumari

Janakpur Utsav Hai Bhari

Janak Raj Ka Kathin Pran
Suno Suno Sab Koi
Jo Tode Shiv Dhanush Ko
So Sita Pati Hoye

Koh Tode Shiv Dhanush Kathor
Sabki Drishti Ram Ki Oar
Ram Vinay Gun Ke Avtar
Guruvar Ki Aagya Sir Dhar

Sehaj Bhav Se Shiv Dhanu Toda
Janak Suta Sang Nata Joda

Raghuvar Jaisa Aur Na Koi
Sita Ki Shamta Nahi Hoi
Dau Kare Parajit
Kanti Koti Rati Kaam Ki

Hum Katha Sunate
Ram Sakal Gun Dhaam Ki
Yeh Ramayan Hai
Punya Katha Siya Ram Ki

Sab Par Shabd Mohini Daali
Mantramugdha Bhaye Sab Nar Naari
Yon Din Rain Jaat Hain Beete
Lav Kush Ne Sab Ke Mann Jeete

Van Gaman Sita Haran
Hanumat Milan Lanka Dehan
Ravan Maran Ayodhya Punaragaman

Sab Vistar Sab Katha Sunayi
Raja Ram Bhaye Raghurai
Ram Raaj Aayo Sukh Daayi
Sukh Samriddhi Shri Gharghar Aayi

Kaal Chakra Ne Ghatna Kram Mein
Aisa Chakra Chalaya
Ram Siya Ke Jeevan Mein
Phir Ghor Andhera Chhaya

Avadh Mein Aisa
Aisa Ek Din Aaya
Nishkalank Sita Pe Praja Ne
Mithya Dosh Lagaya

Avadh Mein Aisa
Aisa Ek Din Aaya

Chaldi Siya Jab Tod Kar
Sab Neh Naate Moh Ke
Pashan Hridayon Mein Na
Angare Jage Vidroh Ke

Mamta Mayi Maayon Ke Aanchal
Bhi Simat Kar Reh Gaye
Gurudev Gyan Aur Neeti Ke
Sagar Bhi Ghat Kar Reh Gaye

Na Raghukul Na Raghukul Nayak
Koi Na Hua Siya Ka Sahayak
Manavta Ko Kho Baithe Jab
Sabhya Nagar Ke Vaasi

Tab Sita Ko Hua Sahayak
Van Ka Ek Sanyasi

Un Rishi Param Udaar Ka
Valmiki Shubh Naam
Sita Ko Aashray Diya
Le Aaye Nij Dham

Raghukul Mein Kuldeep Jalaye
Ram Ke Do Sut Siya Ne Jaaye

Shrota Gan!
Jo Ek Raja Ki Putri Hai
Ek Raja Ki Putravadhu Hai
Aur Ek Chakravarti Raja Ki
Patni Hai

Wahi Maharani Sita
Vanvas Ke Dukhon Mein
Apne Din Kaise Kaat’ti Hai
Apne Kul Ke Gaurav Aur
Swabhiman Ki Raksha Karte Hue

Kisi Se Sahayta Mange Bina
Kaise Apna Kam Woh Swayam Karti Hai
Swayam Van Se Lakdi Kaat’ti Hai
Swayam Apna Dhaan Koot’ti Hai
Swayam Apni Chakki Pisti Hai

Aur Apni Santan Ko
Swavalambi Ban’ne Ki Shiksha
Kaise Deti Hai
Ab Uske Karun Jhanki Dekhiye

Janak Dulari Kulavadhu
Dasharath Ji Ki Raj Rani Hoke
Din Van Mein Bitati Hain

Rehti Thi Gheri Jise
Daas Daasi Aathon Oar
Daasi Bani Apni
Udaasi Ko Chhupati Hai

Dharam Praveena
Sati Param Kulina Sab
Vidhi Dosh Hina Jeena
Dukh Mein Sikhati Hai

Jagmata Hari Priya
Lakshmi Swarupa Siya
Koot’ti Te Hai Dhan
Bhoj Swayam Banati Hai

Kathin Kulhadi Leke
Lakdiyan Kaat’ti Hai
Karam Likhe Ko Par
Kaat Nahi Paati Hai

Phool Bhi Uthana Bhari
Jis Sukumari Ko Tha
Dukh Bhari Jeevan Ka
Bojh Woh Uthati Hai

Ardhangini Raghuveer Ki
Woh Dhar Dheer
Bharti Hai Neer
Neer Jal Mein Nehlati Hai

Vish’ke Praja Ke Apvadon
Kuchakra Mein Woh Pisti Hai Chaaki
Swabhiman Ko Bachati Hai

Paalti Hai Bacchon Ko Woh
Karmayogini Ke Bhanti
Swabhimani Swavalambi
Safal Banati Hai

Aisi Sita Mata Ki
Pariksha Lete Dukh Dete
Nithur Niyati Ko
Daya Bhi Nahi Aati Hai

Ho.. Us Dukhiya Ke Raj Dulaare
Hum Hi Sut Shri Ram Tihaare

Ho.. Sita Maa Ki Aankh Ki Taare
Lav Kush Hai Pitu Naam Humare

Hey Pitu Bhagya Humare Jaage
Ram Katha Kahi Ram Ke Aage

Hum Katha Sunate Lyrics – हम कथा सुनाते – Ramayan Hindi & english Song :-

  • Song Title: Hum Katha Sunate Ram Sakal Gun Dham
  • TV Serial: Ramayan (1987)
  • TV: DD National
  • Music: Ravindra Jain
  • Director: Ramanand Sagar

FAQS for hum katha sunate :-

Who is the singer of Hum Katha Sunate Song ?

Hum Katha Sunate Song is sung by ravindra jain

Who is the music director of Hum Katha Sunatesong?

Hum Katha Sunate Song is composed by ramanand sagar

Which album is the song Hum Katha Sunatefrom?

Hum Katha Sunate is a hindi song from the album Ramayan

When was Hum Katha Sunate Song released?

Hum Katha Sunateis a hindi song released in Year 1987

निष्कर्ष

दोस्त! अगर आपको “Hum Katha Sunate” वाला यह आर्टिकल पसंद है तो कृपया इसे अपने दोस्तों को सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूलें। आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए गाने के बोल लाने के लिए प्रेरित करता है

हमे उम्मीद हे की आपको “Hum Katha Sunate लिरिक्स “ वाला यह आर्टिकल पसंद आया होगा | अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके |

अगर आप अपने किसी पसंदीदा गाने के बोल चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर हमें बेझिझक बताएं हम आपकी ख्वाइस पूरी करने की कोशिष करेंगे धन्यवाद!🙏 

जय श्रीराम 🙏 जय बजरंगबली हनुमान