श्रीहरि के मत्स्य अवतार के प्रादुर्भाव की कथा। अग्निपुराण। अग्निदेव वशिष्ट संवाद

48
MATSYA AVTAAR
स्त्रोत :- अग्निपुराण
अध्याय :-
कथा :- मत्स्य अवतार
भाषा :- हिंदी

यह कथा अग्निपुराण के अध्याय २ की है। जिनमे अग्निदेव महर्षि वशिष्ठ को भगवान श्रीहरि की मत्स्य अवतार की कथा सुना रहे है। जो हर पापों का नाश करने वाली है। अग्निपुराण परम पावन ग्रन्थ है।

महर्षि वसिष्ठजीने कहा – है अग्निदेव ! आप सृष्टि आदिके कारणभूत भगवान् विष्णुके मत्स्य अवतार का वर्णन कीजिये। साथ ही ब्रह्मविद्या स्वरूप अग्निपुराणको भी सुनाइये, जिसे पूर्वकालमें आपने श्रीविष्णुभगवान्के मुखसे सुना था।

अग्निदेव उवाच – वसिष्ठ ! सुनो, मैं श्रीहरिके मत्स्यावतारका वर्णन करता हूँ। अवतार धारणका कार्य दुष्टोंके विनाश और साधु-पुरुषोंकी रक्षाके लिये होता है। बीते हुए कल्प के अन्तमें ‘ब्राह्म’ नामक प्रलय हुआ था। मुने! उस समय ‘पृथ्वी’ आदि लोक समुद्रके जलमें डूब गये थे। प्रलयके पहलेकी बात है। वैवस्वत मनु भोग और मोक्षकी सिद्धिके लिये तपस्या कर रहेथे।

एक दिन जब वे कृतमाला नदीमें जलसे पितरोंका तर्पण कर रहे थे, उनकी अञ्जलिके जलमें एक बहुत छोटा-सा मत्स्य आ गया। राजाने उसे जलमें फेंक देनेका विचार किया। तब मत्स्यने कहा- ‘है राजन कृपया ! मुझे जलमें न फेंको। यहाँ ग्राह आदि जल-जन्तुओंसे मुझे भय है।’ यह सुनकर वैवस्वत मनु ने उसे अपने कलशके जलमें डाल दिया। मत्स्य उसमें पड़ते ही बड़ा हो गया और पुनः मनुसे बोला- ‘महाराज ! मुझे इससे बड़ा स्थान दो।’ उसकी यह बात सुनकर राजाने उसे एक बड़े जलपात्र में डाल दिया। उसमें भी बड़ा होकर मत्स्य राजासे बोला- ‘मनु ! मुझे कोई विस्तृत स्थान दो।’


तब उन्होंने पुनः उसे सरोवरके जलमें डाला; किंतु | वहाँ भी बढ़कर वह सरोवरके बराबर हो गया और बोला -‘मुझे इससे भी बड़ा स्थान दो।’ तब मनुने उसे फिर समुद्रमें ही ले जाकर डाल दिया। वहाँ वह मत्स्य क्षणभरमें एक लाख योजन बड़ा हो गया। उस अद्भुत मत्स्यको देखकर मनुको बड़ा विस्मय हुआ। वे बोले- ‘आप कौन हैं? निश्चय ही आप भगवान् श्रीविष्णु जान पड़ते हैं। नारायण! आपको नमस्कार है। है जगत्पति ! आप किसलिये अपनी मायासे मुझे मोहित कर रहे हैं?’ मनुके ऐसा कहनेपर सबके पालनमें संलग्न रहनेवाले मत्स्यरूपधारी भगवान् उनसे बोले- ‘राजन्! मैं दुष्टोंका नाश और जगत्की रक्षा करनेके लिये अवतीर्ण हुआ हूँ। आजसे सातवें दिन समुद्र सम्पूर्ण पृथ्वी को डुबा देगा। उस समय तुम्हारे पास एक नौका उपस्थित होगी। तुम उसपर सब प्रकारके बीज आदि रखकर बैठ जाना। सप्तर्षि भी तुम्हारे साथ रहेंगे। जबतक ब्रह्माकी रात रहेगी, तबतक तुम उसी नावपर विचरते रहोगे।


नाव आनेके बाद मैं भी इसी रूपमें उपस्थित होऊँगा। उस समय तुम मेरे सींगमें महासर्पमयी रस्सीसे उस नावको बाँध देना।’ ऐसा कहकर भगवान् मत्स्य अन्तर्धान हो गये और वैवस्वत मनु उनके बताये हुए समयकी प्रतीक्षा करते हुए वहीं रहने लगे। जब नियत समयपर समुद्र अपनी सीमा लाँघकर बढ़ने लगा, तब वे पूर्वोक्त नौकापर बैठ गये। उसी समय एक सींग धारण करनेवाले सुवर्णमय दिव्य मत्स्यभगवान्का प्रादुर्भाव हुआ। उनका विशाल शरीर दस लाख योजन लंबा था। उनके सींगमें नाव बाँधकर राजाने उनसे ‘मत्स्य’नामक पुराणका श्रवण किया, जो सब पापोंका नाश करनेवाला है। मनु भगवान् मत्स्यकी नाना प्रकारके स्तोत्रोंद्वारा स्तुति भी करते थे। प्रलयके अन्तमें ब्रह्माजीसे वेदको हर लेनेवाले ‘हयग्रीव’ नामक दानवका वध करके भगवान्ने वेद-मन्त्र आदिकी रक्षा की। तत्पश्चात् वाराहकल्प आनेपर श्रीहरिने कच्छपरूप धारण किया।

इस तरह भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार धारण करके जगत का और महाराज मनु का उद्धार किया। और अपनी लीला समाप्त की

MATSYA AVTAAR KATHA :-

FAQS FOR श्रीहरि के मत्स्य अवतार के प्रादुर्भाव की कथा :-

अग्निपुराण के अधिष्ठाता देवता कौन है ?

अग्निपुराण के अधिष्ठाता देवता अग्निदेव है

मत्स्य अवतार किस भगवान् का है ?

मत्स्य अवतार श्रीहरि नारायण का है

अग्निपुराण किसने किसको कहा ?

अग्निपुराण अग्निदेव ने वशिष्ठ जी को कहा।

निष्कर्ष :-
अग्निपुरान अध्याय २ की मत्स्य अवतार की कथा आपको पसंद आई हो तो शेयर करे।